कच्ची हल्दी का राजस्थानी अचार [Haldi Ka Rajasthani Achaar]

स्नेहा/नव्या आज मैं तुम्हे हल्दी का अचार किस प्रकार से बनता है सीखाने जा रही हूँ। आज कल बाजार में कच्ची हल्दी बहुतयात में मिल रही है, हमारे राजस्थान में हल्दी की सब्जी, अचार और हल्दी वाला दूध बनाया जाता है। सर्दियों में इसका बहुत उपयोग किया जाता है क्योंकि इसकी तासीर गर्म होती है। हल्दी स्वास्थ्य के लिए बहुत ही गुणकारी होती है। इसमें औषधिक गुण होते हैं। वैसे तो तुमने कई प्रकार के अचार खाये होंगे पर हल्दी के अचार का एक अलग ही स्वाद होता है और जब इसे परोसा जाता है तो इसका रंग बहुत ही अच्छा लगता है।

सामग्री:

  • कच्ची हल्दी – 250 ग्राम
  • कुकिंग आयल – 300 ML गर्म करके ठंडा किया हुआ
  • हींग (पीसी हुई) – 1 चुटकी
  • मेथी दाना – 3 टीस्पून
  • सौंफ – 3 टीस्पून
  • पिसी हुई पीली सरसो – 3 टीस्पून
  • पिसी हुई लाल मिर्च – 1/4 टीस्पून
  • नमक – 1 टीस्पून
  • नीम्बू का रस – 2 टीस्पून

विधि:

  1. सबसे पहले तेल गरम कर लेंगे और उसमे हींग डालेंगे और ठंडा होने अलग रख देंगे।
  2. कच्ची हल्दी को हम पानी से धो लेंगे और साफ कपड़े से पोंछकर सुखा लेंगे और छील कर उसकी लंबी और पतली स्लाइस/कतरन काट लेंगे।
  3. अब एक गहरे बर्तन में मेथी, सौंफ, पिसी हुई सरसों, मिर्च, नमक, तेल, नीम्बू का रस डालकर मिक्स करेंगे और हल्दी के स्लाइस डाल कर पुनः इस प्रकार से मिलाएंगे कि हल्दी की कतरनों पर मसाले की अच्छी कोटिंग हो जाये।
  4. अब इस पूरे मिक्सचर को हम कांच के साफ और सूखे मर्तबान/बरनी में पलट लेंगे और चम्मच की सहायता से इस प्रकार दबाएंगे की तेल ऊपर तैरने लगे।
  5. अब हम इस मर्तबान/बरनी को 5 दिन तक धूप में रख देंगे।
  6. तीसरे दिन हम एक फोर्क/चम्मच की सहायता से अचार को अच्छे मिक्स करेंगे और फिरसे धुप दिखायेंगे। चाहें तो किसी सूखे बर्तन में पूरा निकाल कर अच्छी तरह से मिक्स करके वापस मर्तबान/बरनी में भर लें।
  7. 5 दिन बाद हमारा हल्दी का अचार बन कर तैयार हो गया है।
  8. अब आप सादे परांठे, फुल्के या बाजरे और मक्की की रोटी के साथ इसका आनंद लें।

सुझाव:

  1. पीली सरसों न हो तो आप काली सरसों का उपयोग कर सकते हैं पर इस से अचार का कलर उतना अच्छा नहीं आता जितना पीली सरसो के प्रयोग से आता है।
  2. अचार हमेशा तेल में डूबा हुआ होना चाहिए वर्ना फफूंद लगकर खराब हो सकता है।
  3. अचार हमेशा सूखे चम्मच से ही निकालें।
  4. मैंने इस अचार में सोयाबीन के रिफाइंड आयल का उपयोग किया है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*